गुरुवार, 4 नवंबर 2010

कोई लौट आया है

आइए, निगाहों ने फिर उसी, मंज़र को पाया है
देखिए, धड़कनों ने फिर वही, गीत गुनगुनाया है,
सुनिए, तासीर ता-उम्र तक, होती न खतम कभी
देखिए, आपको सुनने ख़ातिर, महफिल सजाया है.

रिश्तें भी कई किस्म के, होते हैं अनेकों रंग जैसे
कोई तो डोर होगी, जिसने बड़े हक़ से बुलाया है,
ख़याल आते ही,सीने में उठती थी आंधी सीने में
हक़ीकत यह भी है कि,
मुझे यादों ने रूलाया है.

आप तो दिल निकालकर, पेश कर देते हैं हमेशा
पर अब तलक, दिल-दिलको ना समझ पाया है,
ख़ैर ज़िंदगी लंबी बड़ी, समझ लेंगे कभी फिर तो
हसरतों को सजने-संवरने दूँ, कोई लौट आया है.