बुधवार, 16 अगस्त 2017

बेचैनियां करा देती हैं एहसासी गबन
ऐ भ्रष्टाचार तू स्पंदन में ढल गया
नादानियाँ प्यार की आभूषण लगे
ऐ शिष्टाचार तू क्रंदन में गल गया

किशोरावस्था का उन्माद ताउम्र रहे
उम्र के ताबेदार, कारवां निकल गया
जीनेवाले, ज़िन्दगी को हर वक़्त सजाएं
साल गिनानेवालों का, मामला टल गया

प्यार को उम्र के चौखटों में वे चपोतें
गोते क्या जाने, जीवन बहल गया
करने लगे भक्ति जिसकी है प्यार शक्ति
परिवर्तित हो प्यार पल में पल गया।

इंसान में भगवान रे मनवा अब पहचान
सम्मान है प्यार जो मचल गया
सब प्यार के पुजारी अंदाज़ है अलग
प्यार, प्यार और प्यार चल गया।

सोमवार, 14 अगस्त 2017

राष्ट्र है
धृतराष्ट्र ना बना
करोड़ों की शान
मन में है घना

राष्ट्र है
शास्त्र कई आधार बना
जीवन के कई पथ बना
करे सामाजिक संघटना

राष्ट्र है
शस्त्र को न भोथरा बना
शस्त्र पूजा कर अर्चना
काले मेघ हुंकारे घना

राष्ट्र है
भ्रष्ट्राचार शिष्टाचार न बना
आवाज को बुलंद बना
भ्रस्टाचारी काटते तना

राष्ट्र है
श्रेष्ठ महान प्रजातंत्र बना
स्वतंत्रता में बलिदान घना
बलिदानियों पर शीश नवा

राष्ट्र है
मात्र खास दिवसों में न समा
रोम रोम में तिरंगा की बसा
नमन समर्पण गर्वित मन सजा।
बस एक थोड़ा सा मन है
शेष तो सब यहाँ गबन है
थोड़ा वक्त थोड़ा प्यार है
थोड़ी ज़मीं थोड़ा चमन है

अख्तियार पूरा करने की ज़िद
पूरा खुद कहां, कहां मन है
थोड़ा जो उनसे मिल पा जाऊं
ज़िन्दगी का वही आचमन है

हैं बहुत दूर प्रीत का लिए गुरुर
जरूर मिलते रोज, दीवानापन है
एक दूसरे के हाल पर रखे नज़र
जी कुछ नहीं बस, अपनापन है

न जाने कैसे मिले और प्यार हुआ
न एक दिन मिले तो सब अनमन है
अपने अपने परिवार के दायित्व लिए
प्यार ही है ना समझें कि पागलपन है।
विलुप्त न होने की हल्की गुहार
शब्दों की हो गयी सावनी फुहार
बूंदों ने राहों को जलमग्न किया
तथागत के कदमों ने मान ली हार

एक शब्द एक वाक्य कितने सशक्त
एक निर्णय में त्वरित हुआ सुधार
हठवादिता तोड़ी साधिका स्नेह से
हृदय में उमड़ भावनाएं बनी आधार

सच प्रेम अपरिभाषित रहा है हमेशा
प्यार में कहीं नहीं मिले प्रतिकार
एक शब्द एक वाक्य बदले निर्णय
अंग अंग चढ़ जाए फिर वही खुमार

ओ प्रेममयी स्नेहमयी लगे नई नई
गयी थी कहां अनसुनी रही पुकार
लो रुक गया झुक गया चुप भया
प्रीत पुनः जागृत प्रतीति की हुंकार।
अब न तुम पर नया गीत लिखूंगा
सिद्धांत के अनुसार न मीत लिखूंगा

तुम एक नई डगर पर चलने लगी
जब भी लिखूंगा सीख प्रीत लिखूंगा

समर्पण नहीं टूटता न झुकता कभी
खामोश हो रहा उनकी जीत लिखूंगा

कृष्ण जन्माष्टमी को कान्हा प्रीत मिली
उनकी इस जीत की प्रतीत लिखूंगा

वो चाहती हैं विलुप्त हो जाऊं पटल से
शटल नई ही कोई गति रीत लिखूंगा।
ऐसा लगे संबंधों में ऋण हो गए
राधा मीरा गोपी बिना कृष्ण हो गए

पूतना पग पग पर रह रह लुभाए
सम्मोहित कर प्राण हर ले जाए
वासुदेव कब के तो उऋण हो गए
गंगा में लहरों के ताल क्षीण हो गए

ऐसा लगे संबंधों में...

बांसुरी से अब प्यार का गान लुभाए
बांसुरी के अन्य पक्ष देते हैं भुलाय
सुमेरु पर्वत के तले सब प्राण हो गए
कृष्ण के स्पर्श से विशाल तृण हो गए

ऐसे लगे संबंधों में...

कृष्ण की विशालता सब लघु बनाए
कभी कोमल रूप ले भक्ति घुलाए
शक्ति शौर्य भक्ति आसक्ति त्राण हो गए
कृष्ण जन्माष्टमी में भक्त प्रमाण हो गए

ऐसे लगे संबंधों में...

कान्हा के कई रूप हर मन को लुभाए
कान्हा के शौर्य रूप लगे छुप छुप जाए
महाभारत में कृष्ण भक्ति दुख बाण हो गए
नई पीढ़ी को मिले ज्ञान तो युग त्राण हो गए

ऐसा लगे संबंधों में ऋण हो गए
राधा मीरा गोपी बिना कृष्ण हो गए।
कृष्ण तृण तृण में
तृण तृण में रण है
कंस कारावास दंश
कृष्णावतार प्रण है

जन्म कब रहा आसान
घमासान कई गण है
जन्म होते मॉ से ज़ुदा
यह अनूठा ग्रहण है

जन्म ही धन्य है
अन्य सब कृपण है
प्रफुल्लित जागृत सहज
सशक्त कण कण है

कृष्ण जन्माष्टमी सुखद
अनहद सम्मिश्रण है
पालने में ही युद्ध क्षेत्र
हर जीवन कृष्ण कृष्ण है ।
फ़्रेंड रिक्वेस्ट कभी भी न भाया
कई रिक्वेस्ट लिए प्रतीक्षा है
जो भी लपक पड़े दोस्त बना लें
भीड़ बढ़ाना ही क्या सदिच्छा है

200-300 मित्रों की लंबी सूची
20-30 से भी न वार्ता समीक्षा है
एक शौक है या कि प्रदर्शन झूठा
फ़्रेंड रिक्वेस्ट भी प्रभु इच्छा है

आप कैसे है, शुभ रात्रि प्रभात ही
इनबॉक्स में भावों की भिक्षा है
शायद 1 या 2 करें खुल कर बातें
शेष फ़्रेंड मात्र खयाली समीक्षा हैं

ऑनलाइन में भी दिखावे की ज़िंदगी
भाव बंदगी की नहीं कहीं दीक्षा है
बांध एक बना दिया अटके फ़्रेंड रिक्वेस्ट
प्रवाह तरल सरल हो मिली शिक्षा है।
.छुट्टियों का दिन अजीब होता है
दिल तो दिल हर करीब होता है

पत्नी कहे मोबाइल से न चिपको
प्रिये बोले न साथ नसीब होता है

तुला राशि है पर संतुलन न हो
असंतुलन में ही अदीब होता है

यह छुट्टियां सौतन सी रहीं सता
मिज़ाज़ खौफ के नसीब होता है

प्यार पर कब हुआ नियंत्रण कभी
ढूंढ रहा मन कोई तरकीब होता है।
.धीमी धीमी प्यार की आंच
मुझको कर ली पूरा बांच

एक समर्पित रागिनी मिली
दुनियादारी की धतूरा साँच

आक्रामक शेरनी सी हुंकारे
चटख गए सब नूरा कांच

मुझसे कोई ना बात करे यूं
प्रीत की न दे कोरा  नाच

ओ प्रिये सुन तो रही होगी
तुम मेरी हो सुनहरा उवाच।
आसमां छूट रहा कसी मुट्ठी से
लड़ने लगी ज़िन्दगी चुटकी से

कितनी तन्हाईयों ने अब आ घेरा
डेरा और डरे उनकी घुड़की से

मान लेगा मन जो भी कहें वह
कहां फिर मुक्ति मनकी कुड़की से

प्यार समर्पण का दर्पण रहा हमेशा
तर्पण प्यार का प्रिये की खिड़की से।
.शब्द तब तलवार उमंग ढाते हैं
जब वो तीसरे को संग लाते हैं

कल तक प्यार के गोते लगे
आज वह इश्किया बेरंग भाते हैं

किसी के हक को छीनना न प्यार
देर बहुत कर अब बतलाते हैं

एक लंबी दूरी प्यार का तय कर
प्यार की राह बेढंग जतलाते हैं

कौन आया उनकी ज़िंदगी में नया
चमक उसकी ले बेरंग लौटाते हैं।
दुख दर्द कहां प्यार में ऐतबार कीजिये
भटके हैं तो मुझ सा जी प्यार कीजिये

नस-नस में रोम-रोम में बसी है प्रिये
अपने को यूं बसाकर सत्कार कीजिये

दूरी बहुत है पर मोबाइल भी है जरिया
नजरिया दिल लगी का आधार कीजिये

रोना बिलखना कहां प्यार को जतलाये
प्यार नहीं हार महज ऐतबार कीजिये

माना कि लिपट चिपट कर जीना चाहे
वीडियो चैट से ऐसा ही करार कीजिये

सब कुछ सब कहीं मिलता नहीं यहां
जहां में हैं तो जहां को स्वीकार कीजिये।

मंगलवार, 11 जुलाई 2017

गमगीन है, उदास है
डगमग लगे विश्वास है
एक द्वंद्व अजूबा सा
वैचारिक उलझा उच्छवास है

यह प्यास की अपूर्णता
या फिर नई तलाश है
मन तो आराजित रहे
जीवन में क्या खास है

जो उलझा वही सुलझा
जो सुलझा वही विन्यास है
निष्क्रियता है स्पंदनहीनता
उलझिए न क्यों हताश हैं

पीड़ा का अर्थ नवीनता
सहनशीलता ही आकाश है
धरा की जो है उर्वरताएँ
अनेकों संभावनाओं की आस है।

शुक्रवार, 7 जुलाई 2017

.सेदोका

हिम खंड लो
टूटती जलधारा
तोड़े तटबंध को
रोक लो अब
वरना तो डरना
जलमग्न बहना।

2. खुले में शौच
     खोले रोग अपार
     गंदगी भरमार
     बंद हो द्वार
     सफाई की पुकार
      आप ही सरकार।

3.  प्लास्टिक रोको
     यह घातक बड़ा
     न उपयोग बढ़ा
     प्लास्टिक है बुरा
     उपयोग बंद हो
     मानव तू नहीं सो।

4. गीला सूखा रे
    अलग हो कचड़ा
    ना कर तू लफड़ा
    गीला अलग
    सूखा कचड़ा भी
    शुद्ध परिवेश जी।

5. गंगा पवित्र
    नदी नहीं जीवन
    आत्मा का ही यौवन
     फूल न बहा
     प्रार्थनाएं ही बहे
     गंगा कितना सहे।

   

गुरुवार, 6 जुलाई 2017

वही हौसला है
क्या फैसला है
उम्मीदों का बादल
फिर निकल पड़ा है

एक अनुभूति गहराती
मन प्यासा घड़ा है
एक ज़िन्दगी की गति
स्वप्न मूक खड़ा है

विस्मय निरख रहा
एहसास बड़ा है
सौंदर्य सुगंधमयी
नैवेद्य पड़ा है

प्रांजलता की चाहत
अकुलाहट अकड़ा है
हृदय में रागिनियाँ
कूदता भोला बछड़ा है।

बुधवार, 28 जून 2017

मन पानी की तरह है
जिधर ढलना ढल जाएगा
बावरे तू न कुछ कर पाएगा

हर मन का अपना पवन है
मन की प्रीत बड़ी गहन है
मन किसी बांध से न बंधे
मन को जब बहना बह जाएगा
बावरे तू न कुछ कर पाएगा

किसी के मन पर अख्तियार
अरे यह सोचना है बेकार
बेजार मन जब तड़पायेगा
ढलान मिले वहीं बह जाएगा
बावरे तू न कुछ कर पाएगा

प्रयास, कोशिश, एफर्ट, मेहनत
या कि वर्षों से हो सोहबत
लगन जिसकी लगी लुढ़क जाएगा
बर्फ चट्टानी लिए बह जाएगा
बावरे तू न कुछ कर पाएगा

यह हंसी, बोल, जो किल्लोल है
मन का मन से लगे होता मेल है
गोलमोल हो तू कितना लुभाएगा
मन चुपके से बहा चला जाएगा
बावरे तू न कुछ कर पाएगा

बीते जमाने की शायरी का ले जोश
सोच मत प्रतियोगी हो जाएं खामोश
ऑनलाइन दुनिया में कब क्या हो जाएगा
मन आज इधर कल उधर बह जाएगा
बावरे तू न कुछ कर पाएगा।


मंगलवार, 27 जून 2017

क्यों छुआ तुमने निमंत्रण न था
क्यों जिया तुमने आमंत्रण न था
एक अगन ज़िन्दगी जलाती रहेगी
क्यों किया तुमने जब प्रण न था।
पत्नी दो नयना है
प्रिये है तीसरी आंख
पत्नी अगर है गरिमा
प्रिये लगे, है साख

दो नयन करे आचमन
तीसरी आंख करे फांक
रसीले आम सी ज़िन्दगी
कुशलता से ली बांट

तीसरी आंख अति उल्लास
दो नयन छुड़ाए हर गांठ
तीसरी आंख शोख चंचल
दो नयन दे सुख का ठाठ

त्रिनेत्र शंकर हैं भोले भंडारी
दो नयन सनेही दे सब बांट
त्रिनेत्र न हो तो मस्ती न मिले
दो नयन बिना न दिखे बाट।
तुम गुमसुम लगी थी पहली मुलाकात में
अब झरने जैसी कल-कल बहती दिलोजान में
यह भी तो ज़िन्दगी अपनी है दुनिया से छुपी हुई
खिल-खिल कर मस्ती में एक दूजे के गुमान में।

शनिवार, 17 जून 2017

मेरी प्रीत अर्चना की नीर हो गयी
तेरी रीत प्रीत की प्राचीर हो गयी
मेरी भावनाएं लहरों में है हुंकारे
मोहब्बत की तालीम बन ज़मीर हो गयी

प्यार की गहराईयों का अभिव्यक्तियाँ
तेरे इजहार को पाकर अमीर हो गयीं
हर बार लगे प्यार का है मुगालता मुझे
हर रोज तेरा प्यार मेरी तकदीर हो गयी

ज़िन्दगी मखमली एहसास में ढले हमेशा
बंदगी प्यार की इंसानियत की खीर हो गयी
हर चुनौतियां लगे हो जाएंगी हल यूं ही
तू क्या मिली ज़िन्दगी बाहुबली सा अधीर हो गयी

मिलते हैं कटप्पा कई राह -ए-,ज़िन्दगी मैं
देवसना सी तू ज़िन्दगी की गुलाल-अबीर हो गयी
तेरे प्यार में हो गया विशिष्ट, निराला व्यक्तित्व
अपघात का भय कैसा तू मेरी तीर हो गयी।

शनिवार, 10 जून 2017

तीन बजे रात से तुम्हें सोचते रहा
जैसे नमाज़ी सेहरी में मशगूल
ईश्वर प्यार ही तो है, सब करें
चांद की ख्वाहिश लिए उसूल

भोर की मस्जिद की दिखें हलचलें
नमाज़ी की नमाज़ हो रही कुबूल
भोर की हलचलें आरम्भ हो चलीं
सेहरी मिलने इफ्तारी को दे रही तूल

दिल में आया तुम्हारा खयाल उठ गया
भोर पाकीज़गी के शोर में मशगूल
तुम भी किसी दुआ हेतु एहसासी सजदा
और रहमत हो मिल जाओ जैसे रसूल।

सोमवार, 5 जून 2017

तुम्हारी पलकों ने मेरी पलकों को छुआ
आंखें खुली, सुबह धुली-धुली, दे दुआ

यह स्वप्न था या एहसास था ना जानूँ
पलकों में भोर का जल गया वही दिया
रोशन हो उठा दिल भावनाओं का झिलमिल
ओ प्रिये क्या सोच लिया क्या यह किया

तुम साँसों की डोर हो मेरी चितचोर हो
तुमसे मिलन चाह चलन झूमता हिया
तुम पंखुड़ियों सी कोमल, नदिया सी कल-कल
अरमानों की कश्ती में संग कहां चल दिया

प्यार हुआ, इकरार हुआ, मिली ईश्वरीय दुआ
तुम पूजा की थाल सी मैं मन्नतों की प्रक्रिया
तुम कामायनी, विश्व प्रदायनी, धरती स्वरूपा
मैं आराधक, तुम्हारा साधक, प्रोन्नत कितना किया

ओ प्रिये तुम्हारी पलकों ने मेरी पलकों को छुआ
मन मुग्धित हो मगन हुआ, एहसासी यह धुआं।

शुक्रवार, 26 मई 2017

आज निशा निमंत्रण है
हृदय भी किए प्रण है
चांदनीं में डूब नहाए मन
स्पंदनों से गूंजे हर कण-कण है।

                       -2-
आज निशा निमंत्रण है
हृदय का मुक्त भ्रमण है
चांदनीं बिखरी सकुचाई सी
चंदा कहे क्या रमण है।

                           -3-
आज निशा निमंत्रण है
हृदय करे कुछ संग्रहण है
चांदनीं बिखरी जुल्फों सी
मुग्धित हर पल - क्षण है।

गुरुवार, 25 मई 2017

मन का आचमन हुआ, अचंभित है मन
सब कुछ मिलाकर मन को तुम कर दिया
पलकों में स्वप्न हो अधीर कर रहा विचरण
अपनी हो कोई एक राह मन ढूंढ ला दिया

जेठ की तपिश सा लगे तुम बिन होना तो
सावन की रिमझिम सा है तुमने भींगा दिया
बूंदों सा भाव टपटपाते मन में थिरक रहे
ओरी से गिरते जल सा निरर्थक बहा दिया

मिलने का यह मिलन सदियों का है चलन
जलन सीने में हो रही यह क्या जला दिया
कभी बहकने लगे मन तो हो जाए अनमन
घनघन कारे बदरा संग जिया को उड़ा दिया

सब खो गया तुम में, मैं से ढला हम में
हमने हिया में सप्तरंगी सा सजा दिया
भविष्य के डगर के हैं हम गुप्त से राही
कभी उम्मीद, कभी भय तो जय को जगा दिया।

सोमवार, 15 मई 2017


 प्यार भरी दे रहीं धमकियां
कुछ तो न किया क्यों मियां

उनके तसव्वुर में बोल गया
छुपाया है जो हमारे दरमियाँ

बदगुमानी न बदमिजाजी है
हर्फ़ समझें न बना दें सुर्खियां

बेमुरव्वत कब रही मोहब्बत
तलाशे मन क्यों एहसासी सर्दियां

ना तराशो ना अब और लावण्यमयी
बुत बना दोगी हँसेगी सखियां।

शुक्रवार, 7 अप्रैल 2017

हद है कि इश्क़ अब दीवान हो गया
इंसान भी गुम होकर महान हो गया

इश्क़ तकिया कभी बिछौना सा बनाएं
आरामगाह तो कभी अभियान हो गया

उनके गेसुओं में उलझने का न मौका 
तत्काल टिकट सा इश्क़ सामान हो गया

किसको पड़ी निगाहों में उतरने की फिक्र आज
अब यूं लगे कि इश्क़ बेजुबान हो गया

सिर्फ बाहों के घेरे के अधिकांश चितेरे भरे
झटपट फटाफट लिपट का कद्रदान हो गया

धडकनों, तड़पनों, उलझनों का मज़ा भूले
इश्क़ एहसास ना रहा बड़ा नादान हो गया।
कुछ कुछ ज़िन्दगी सिखलाने लगी है
दे इश्किया मिजाज बहलाने लगी है

वर्षों से जिनके साथ कट रही है जिंदगी
क्या हुआ कि ज़िन्दगी ही फुसलाने लगी है

एक वह शख्स मेरी ज़िंदगी में छाए इस कदर
किसी भी छाए में याद खूब गुदगुदाने लगी है

उनके पहलू में भी दरमियाँ आ जाये वह हरदम
भरम रहे कि उसकी अंगुलियां सहलाने लगी है

किसी के साथ ज़िन्दगी किसी के पास ज़िन्दगी
मोहब्बत इल्म बनकर क्यों इठलाने लगी है

नहीं गंवारा उनकी बाहों का बंधन कसम से
दिल रोए और जिस्म जुल्म उठाने लगी है

किस मोड़ पर मिले हम कि ना विद्रोह दम
नए हमदम की चाहत रोज रुलाने लगी है।

निज़ता

निज़ता

भावनाओं के पुष्पों से,हर मन है सिज़ताअभिव्यक्ति की डोर पर,हर धड़कन है निज़ता,शब्दों की अमराई में,भावों की तरूणाई हैदिल की लिखी रूबाई मे,एक तड़पन है निज़ता.
शब्द सहमत नहीं
भावनाएं ढल रहीं
खयाल उनका है ऐसा
लचक कहीं बल कहीं

घनेरे बादलों से घिरा
लगे आसमां चपल नहीं
बिजलियाँ चमक रहीं
लगे क्यों धवल नहीं

यादें ऐसे ही तड़पायें
तन में हलचल नहीं
यह स्थिरता है अजब
स्पंदन पल-पल कहीं

अभिव्यक्तियाँ मस्तियाँ बनी
सम्प्रेषण में कलकल नहीं
एक आकर्षण सहज सा
प्रिये जहां मन भी वहीं।
मैं भी तो किसी जिस्म की फरियाद हूँ
कल्पनाओं में अभी तक अविजित नाबाद हूँ

ज़िन्दगी को जिस तरह जिलाओ जी लेती है
मैं भी तो किसी खयालों का प्यारा आफताब हूँ

कहीं कभी तो किसी को छू लेगा मन मेरा भी
चूनर की चुनहटों में फुसफुसाती एक आवाज हूँ

मन मयूर की तरह फैलाए है पंख ऐ जहां
जहां में मेरी भी जन्नत जहां मैं लाजवाब हूँ

मेरी प्रिये मन में जिये कुछ फलसफे लिए
मैं  आवारगी के चमन का दिलफेंक आदाब हूँ।

शनिवार, 11 मार्च 2017

रंग-रंग परिवेश है, लेकर अपनी आस
चाहत चठख रंग तलाशे, अपनी-अपनी प्यास
फागुन आया लिए फुहारें, तन-मन हर्षाए
नयन-नयन पिचकारी, ढूंढे कोई ख़ास

कान्हा-कान्हा पुरुष बने, नारी राधा हिय साथ
अर्पित मन अकुलाय के, मांगे प्रीत विश्वास
अबीर-गुलाल कमाल किए, हिय से हिय छुए
हर्ष-विषाद सब रंग हुए, बन एक दूजे के ख़ास

विपुल संपदा, व्यापक संस्कृति, जग पाए गति
 रंग बिखेरें छटाएं और फागुन भारत उल्लास
सभी भाव मुखरित हों, सब के माफिक रंग
समरसता की होली यह मन में लाए मधुमास

फागुन एक त्यौहार नहीं जीवन का रसधार
रंग लगाकर हर्षित हो मन स्नेह का अहसास
इन शब्दों में भर रंगों को आप को शुभ होली
अल्हड़, अलमस्त, अलहदा फागुन का है मास।

शुक्रवार, 17 फ़रवरी 2017

ताश के पत्तों की तरह फेंट रहा दिल
कोशिश यही कि जाएं खूब हिलमिल
दिल का मिलना है जैसे सूर्यमुखी खिलना
और फिर चहक उठें दिल दो खिल-खिल

सब प्यार की चादर से दुआ प्रीत की मांगें
अरमान दिल में संग मीत को लिए भागें
छू न सके छाया, माया, प्रतिकाया कातिल
चाहत के धागों से जो सजी चुनरी झिलमिल

परिचय में प्रस्फुटित एक नया मचान है
नयनों में अंकित प्रेम का फरमान है
तरल भावनाएं उमंगित रही तलाश साहिल
परिचय भी हो गहरा यूँ तो चाहे नई मंजिल

खयालों में शब्दों में सब समेट रहा हूँ
उत्साह लिए दिल को नित फेंट रहा हूँ
एक शबनमी सुबह से मिले रश्मियाँ खुशदिल
क्या बात रहे फिर जो जवां दिल जाएँ मिल।

गुरुवार, 16 फ़रवरी 2017

स्मिति की परिधि में उल्लास तुम्हारा
एक शक्ति पुंज का मिल गया है सहारा
मैं भ्रमर सा यायावर पुष्प डाल का
एक डाल ज़िन्दगी का बन गयी है नज़ारा

स्पंदन, शीतल चन्दन, भाव में वंदन
जिस क्षण हम मिले उस पल का अभिनन्दन
कश्ती को लहरों का मिला है सहारा
सागर की हुंकारों में है नाम तुम्हारा

उलझी ना डगर है पर पेंच मगर है
कुछ दूरियां कुछ व्यस्तताओं का समर है
धड़कनों को अनवरत तुम्हारे नाम का सहारा
तुम विश्व हो और अभिसार का चौबारा

पल्लवित, पुष्पित तुम्हारी हर क्यारी है
ह्रदय में विभिन्न छटाएं ही तुम्हारी हैं
अनुभूतियों ने क्षण को निखारा है संवारा
स्मिति की परिधि में विश्वास का नजारा।