सोमवार, 28 मार्च 2011

क्रिकेट

एक शोर
जोरशोर से चलाए हवा
जिससे
मुड़ जाती हैं
अधिकांश निगाहें
इसे ही कहते हैं
हवा का रूख बदलना.

एक व्यक्ति
मिलाकर कुछ व्यक्ति
लेकर कई मानव शक्ति
करता है हरण
हवा की नमी का
इसे ही कहते हैं व्यावसायिक संचलन.

एक प्रयास
मनोरंजन में लपेट
दे भावनात्मक एहसास
पूरे के पूरे देश को
एक सोच के लिए
करता मज़बूर
इसे ही कहते हैं आधुनिक आखेट
या फिर कहिए खेल क्रिकेट.


भावनाओं के पुष्पों से,हर मन है सिज़ता
अभिव्यक्ति की डोर पर,हर धड़कन है निज़ता,
शब्दों की अमराई में,भावों की तरूणाई है
दिल की लिखी रूबाई मे,एक तड़पन है निज़ता.

5 टिप्‍पणियां:

  1. is criket ne to ek hi lahar bahayi hai ... hamara india .... jeetega zarur jeetega

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्रिकेट , एक आधुनिक आखेट ...वाह ! एक अनोखे अंदाज़ में अनुपम प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्तमान का यथार्थ है आपकी कविता में .

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन भी क्रिकेट ही है ..अनिश्चित .....आपने बहुत सुन्दरता से वर्णन किया है

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्रिकेट ........एक आधुनिक आखेट ......!!!!!!!!!! अच्छे लगे आपके शब्द माला..

    उत्तर देंहटाएं