सोमवार, 7 मार्च 2011

आज महिला दिवस है

शब्द शंकर हो गए बनी भावनाएं भभूत
घंटियों की ध्वनि से बरस रहा रस है
शिखर पर फहरा रही हैं रंगीन पताकाएं
टोलियॉ गूंज उठी आज महिला दिवस है

श्रम, समर्पण, नयन दर्पण जिनका रिवाज़ है
पारिवारिक दायित्वों पर जिसका ही बस है
एक दिवस ऊभर कर नारी की गुहार करे
सर्जना पुकार रही आज महिला दिवस है

शून्य ऑखें ढूंढ रही कहीं अपना मचान
देहरी से बंधे कदम चले ना कोई बस है
शिक्षा, समाज, स्वतंत्रता के तड़प के बोल
खोल दो सांखल मिल आज महिला दिवस है

गॉव, नगर देखिए अब, जो  शहर से दूर हैं
अज्ञानता, अनभिज्ञता का अनर्गल तमस है
नारी आज मिल चलो विजय पथ की ओर
जीत की ज्योत जले आज महिला दिवस है.


भावनाओं के पुष्पों से,हर मन है सिज़ता
अभिव्यक्ति की डोर पर,हर धड़कन है निज़ता,
शब्दों की अमराई में,भावों की तरूणाई है
दिल की लिखी रूबाई मे,एक तड़पन है निज़ता.

14 टिप्‍पणियां:

  1. महिला दिवस की सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. yah sankhal khol do aaj mahila divas hai , bahut achhi abhivyakti , badhai

    उत्तर देंहटाएं
  3. महिला दिवस की शुभकामनाये
    अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. महिला दिवस पर सुंदर पोस्ट से आगाज़. महिलाएं सशक्त हों जिससे सिर्फ एक दिवस मनाने कि आवश्यकता ही समाप्त हो जाये. महिला दिवस पर सुंदर प्रस्तुति. शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  6. महिला दिवस पर प्रस्तुत सार्थक ...भावपूर्ण रचना के लिए ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप अच्छा लिखते हैं ....शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच ये सारे संकल्प लेने पढेंगे आज के दिन .... आज दिन है कुछ कर दिखाने का ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. sunder rachna , badhi swekare ..
    aur meri rachna mahobbat thaher jati hai us per aap ki mahatvpurna tipanni ke liye bahot bahot dhanyavad...

    palak

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !
    शुभकामनायें एवं साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं