शुक्रवार, 4 मार्च 2011

तुम ना देती साथ

जीवन के नित संघर्षों में, वेग बड़ा तूफानी है
नित प्रवाह से मिले थपेड़े, संघर्षरत ज़िंदगानी है
कदम दौड़ते रहते हरदम, हॉथों में लिए प्यास
चूर-चूर कर बिखर मैं जाता, तुम ना देती साथ


प्यार शब्द से यार जुड़ा जिसमें है अख्तियार
संसार में अतिचार है चहुंओर विविध है पुकार
स्वप्न बड़े हैं, लक्ष्य बड़े हैं, हो जाता शिलान्यास
एक नींव से ना जुड़ पाता, तुम ना देती साथ


कोलाहल है, कलुषित-कल्पित यहॉ नया हर भेष है
खुशियॉ, उत्सव, हर्ष, ख्वाहिशें, बस थोड़ी सी शेष हैं
गतिशीलता में ना जाने कब लग जाता एक फॉस
जीवन जटिल जंग हो जाता तुम ना देती साथ

एक हो तुम मृदु तरंगिनी, खूबसूरत लय विश्वास
पुष्पित पल्लवित धरा झूमती संग सरगमी साज
तुम ही हो आत्मशक्ति तुम निज़ता का अहसास
मैं ना रह पाता एक गूंज, तुम ना देती साथ.




भावनाओं के पुष्पों से,हर मन है सिज़ता
अभिव्यक्ति की डोर पर,हर धड़कन है निज़ता
शब्दों की अमराई में,भावों की तरूणाई है
दिल की लिखी रूबाई मे,एक तड़पन है निज़ता.

15 टिप्‍पणियां:

  1. वाह। अति सुंदर। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह। अति सुंदर। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब..सुन्दर भावमयी प्रस्तुति..शब्दों और भावों का प्रवाह लाज़वाब..

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोलाहल है कलुषित कल्पित यहाँ हर भेष है .....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति भावों की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब..सुन्दर भावमयी अच्छी प्रस्तुति ,शब्दों और भावों का प्रवाह लाज़वाब..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर भावमयी प्रस्तुति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  7. .

    आत्मविश्वास जगाती इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई । Quite motivating and inspiring creation .

    .

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक हो तुम मृदु तरंगिनी, खूबसूरत लय विश्वास
    पुष्पित पल्लवित धरा झूमती संग सरगमी साज
    तुम ही हो आत्मशक्ति तुम निज़ता का अहसास
    मैं ना रह पाता एक गूंज, तुम ना देती साथ.

    बहुत सुंदर प्रस्तुति, सुंदर बिम्ब प्रयोग. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम ही हो आत्मशक्ति तुम निज़ता का अहसास
    मैं ना रह पाता एक गूंज, तुम ना देती साथ.


    बहुत सुंदर भावनात्मक अभिव्यक्ति ......किसी का साथ मिलना जिन्दगी को बदल देता है

    उत्तर देंहटाएं
  10. कोमल भावनाओं की सुन्दर प्रस्तुति....बहुत ही सुन्दर रचना।

    रचनाकार पर आकर मेरी कविता पढ़नें व अपनी प्रतिक्रियाओं से अवगत कराने के लिये धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक तुम का साथ ही जीवन के सभी रंगों का कारण है ..
    प्रिय को समर्पित अच्छी कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  12. तुम ही हो आत्मशक्ति, तुम निजता का अहसास.... बहुत खूबसूरत भावनाएं... किसी अपने का साथ जिंदगी में अपार खुशियाँ व आत्मविश्वास भर देता है..

    उत्तर देंहटाएं