सोमवार, 14 फ़रवरी 2011

बहुत हो अच्छी तुम


बहुत हो अच्छी तुम अच्छी लगती मुझे

ब्लॉग पर जाकर रोज निहारता हूँ तुम्हें

ना कहना गलती है या अपराध मेरा

खींच ले जाते हैं वहां कुछ बावरे लम्हें



जितना पढ़ा है तुम्हें मानो पढ़ लिया दिल

ब्लॉग तो बोलता है दिल के खालिस नगमें

धडकनें धडकनों से मिलकर बन जाती धुन

गुनगुना उठते होंठ मेरे पाकर मीठे सदमें



दिल चाहे बोल दे तुमको, शालीनता रोके

डर लगे न जाने क्या क्या उठे, गगन में

ब्लाक कर दोगी तो बंद हो जाएगा दिल

अभी तो कोंपले ना उठी हमारे मन में



है उम्मीद यह इजहार असर लाएगा नया

आ जाउंगा मैं भी तुम्हारे ब्लॉग की हद में

वर्चुअल दुनिया में ऐसी ही होती मुलाकातें

ना जाने तुम कहाँ मैं भी अपनी सरहद में.





भावनाओं के पुष्पों से,हर मन है सिज़ता 
अभिव्यक्ति की डोर पर,हर धड़कन है निज़ता,
शब्दों की अमराई में,भावों की तरूणाई है 
दिल की लिखी रूबाई मे,एक तड़पन है निज़ता.

11 टिप्‍पणियां:

  1. :) :) सुन्दर अभिव्यक्ति ...ब्लॉग बंद न होने दीजियेगा ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह जी वाह ये अन्दाज़-ए-बयाँ तो बहुत खूब है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपने आप में बिलकुल अनोखा अंदाज़ , आनंद आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब। जय हो ब्‍लागिस्‍तान की। बेहतरीन रचना।

    उत्तर देंहटाएं