शुक्रवार, 10 दिसंबर 2010

एक शाम

शाम की तलहटी में, आहटों का सवेरा है
डूबते सूरज की मूरत में, छिपा वही चितेरा है
शाम की ज़ुल्फें खुली, हवा भी बौराई है
धड़कनें बहकने लगी, चाहत लगे लुटेरा है

दिनभर की थकन, एक अबूझा सा दहन
हल्की-हल्की सी चुभन, सबने आ घेरा है
कदम भी तेज चले, नयनों में दीप जले
लिपट लूं ख्वाहिशों से, वह सिर्फ मेरा है

ज़िंदगी भागती तो लड़खड़ाती, दौड़ रही 
अपने पल, अपने मन की, मधुमय रेखा है
सिमट लूं संग उनके, पल दो पल चुराकर
आज की बात करूं, कल किसने देखा है.

1 टिप्पणी:

  1. लिपट लूँ ख्वाहिशों से वह सिर्फ मेरा है ....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं