बुधवार, 23 नवंबर 2011

प्यार के गीत लिखो




स्वप्न नयनों से छलक पड़ते हैं
बातें ख्वाबों में अक्सर दब जाती हैं
अधूरी चाहतों की सूची है बड़ी
चाहत संपूर्णता में कब आती है

चुग रहे हैं हम चाहत की नमी
यह नमी भी कहाँ अब्र लाती है
सब्र से अब प्यार भी मिले ना मिले
ज़िंदगी सोच यही हकलाती है

इतने अरमान कि सब बेईमान लगें
एहसान में भी स्वार्थ संगी-साथी है
दिल की तड़प, हृदय की पुकार  
आज के वक़्त को ना भाती है

प्यार के गीत लिखो प्यार डूबा जाय
इंसानियत निगाहों को ना समझ पाती है
फ़ेसबुक,ट्वीटर,एसएमएस की गलियाँ  
प्यार को तोड़ती, भरमाती हैं।

  



भावनाओं के पुष्पों से,हर मन है सिज़ता
अभिव्यक्ति की डोर पर,हर धड़कन है निज़ता, 
शब्दों की अमराई में,भावों की तरूणाई है
दिल की लिखी रूबाई मे,एक तड़पन है निज़ता.

5 टिप्‍पणियां:

  1. आज के वक्त की नब्ज को पहचानती हुई एक कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिलकुल सही कहा है ये गलियां बहुत भरमाती हैं... यहाँ सब स्वार्थ के संगी साथी हैं... सटीक लेखन

    उत्तर देंहटाएं
  3. waah bahut khub likha hai aapne samay mile kabhi to aaiyegaa meri post par aapka svagat hai
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/2011/11/blog-post_20.html

    उत्तर देंहटाएं