सोमवार, 22 नवंबर 2010

देह देहरी

देह देहरी पर क्यों बैठे बन प्रहरी
पंखुड़ी पर बूंद कुछ पल है ठहरी
अपलक क्यों हैं खुद को थकाईएगा
जड़वत रहेंगे या मन तक जा पाईएगा

कशिश है, तपिश है, सौंदर्य है, सिरमौर है
प्रीति की रीति यहीं मनभावन ठौर है
गुनने-बुनने में क्या दौर यह भगाईएगा
तट तक रहेंगे या मन भर गुनगुनाईएगा

सृष्टि सिमट जाती है  अनोखे आगोश में
बेसुध हो जाते हैं आते तो हैं होश में
बेखुदी में आप भी भरम और फैलाईएगा
एक-दूजे को समझेंगे या बरस जाईएगा

वेदना, संवेदना की जागृत यहीं संचेतना
उद्भव, पराभव का स्वीकृत यहीं नटखट मना
देह देहरी पल्लवन में कहॉ तक भटकाईएगा
प्रहरी रहेंगे या फिर मन हो जाईएगा.

1 टिप्पणी:

  1. देह देहरी पर क्यों बैठे बन प्रहरी
    पंखुड़ी पर बूंद कुछ पल है ठहरी
    अपलक क्यों हैं खुद को थकाईएगा
    जड़वत रहेंगे या मन तक जा पाईएगा

    मन तक जा कर ही मन तृप्त होता है ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं